जलागम प्रबंधन

24 Nov 2015

watershed-management-24122014

भूमि संसाधन विकास, ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा “जलागम प्रबंधन में सामुदायिक भागीदारी” पर चर्चा के लिए एक पहल की शुरुआत की गई थी जिस पर नागरिकों ने अपनी भारी प्रतिक्रिया दी। इस विषय पर हमें कई उपयोगी सुझाव और विचार प्राप्त हुए।

चर्चा में प्रतिभागियों का उत्साह देखकर यह ज्ञात हुआ कि सभी लोग देश में पानी की उपलब्धता के विषय को लेकर चिंतित हैं। उनमें से कुछ प्रतिभागियों द्वारा अत्यंत रोचक विचार और सुझाव पेश किए गए जिनमें से कुछ सुझावों का उल्लेख यहाँ किया जा रहा है।

जलागम प्रबंधन का पर्याय आज गरीबी उन्मूलन से लिया जाता है। अनेक लोगों द्वारा जलागम प्रबंधन के लिए सामुदायिक भागीदारी का सुझाव दिया गया है। उनके द्वारा समाज के सभी वर्गों को इस कार्य से जुड़ने का सुझाव भी दिया। साथ ही जलागम प्रबंधन के सिद्धान्तों पर चलते हुए जल संचयन के काम से जुड़े लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए भी सुझाव दिए गए। कृषि और बागवानी की सिंचाई में पानी का सदुपयोग करने के लिए सभी लोग ड्रिप सिंचाई के प्रयोग पर एकमत थे। उनमें से कुछ लोगों के द्वारा जल प्रयोग करने की पुराने तरीकों, बढ़ती मांग, भूमि उपयोग में परिवर्तन, और बदलते मौसम पर भी ध्यान परिलक्षित किया गया जिनके कारण जल प्रबंधन का खर्च लगातार बढ़ रहा हैं। इंजीनियर द्वारा सुझाए गए समाधान ‘प्राकृतिक बुनियादी सुविधाओं’ के साथ एकीकृत जल प्रबंधन कार्यनीतियों में निवेश करके जल प्रबंधन की लागत को कम किया जा सकता है, अधिक सेवाएँ प्रदान की जा सकती हैं और समुदायों एवं पर्यावरण दोनों को लाभान्वित किया जा सकता है।

सबसे अधिक ध्यान स्वस्थानी मिटटी की नमी को बचाने पर दिया गया। बांध निर्माण करने की तुलना में भूमि के स्वामित्व, समोच्च मेड़, नाली अवरोधक, ढालू भूमि का स्थिरीकरण इत्यादि विषयों को अधिक महत्व दिया गया। जलभृतों, कृषि भूमि में वर्षा जल का संरक्षण, जल संचयन के लिए कम लागत के ढांचों का निर्माण करना और तालाबों, कुण्डों और अन्य पारंपरिक जल संचयन के अतिक्रमण को रोकने के लिए भी कई सुझाव दिए गए। जलागम प्रबंधन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों को साझा करने के सुझाव भी दिए गए।

जल प्रबंधन से जुड़े कई अन्य विषयों जैसे कि शहरों में वर्षा जल का संचयन, शहरों से स्रावित पानी का संग्रह कर उसका प्रयोग करना और देश को जोड़ने वाली नदियाँ इत्यादि विषयों पर भी सुझाव साझा किए गए जो कि जलागम प्रबंधन का हिस्सा नहीं थे।

हम नागरिकों द्वारा दिए गए सुझावों/विचारों को एक दस्तावेज़ के रूप में लाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। निश्चित ही यह सुझाव विभाग द्वारा चलाए जा रहे इस कार्यक्रम को सकारात्मक रूप से प्रभावित करेंगे।

इस विषय पर चर्चा सितम्बर 2014 से की जा रही है और हमें दो हज़ार से अधिक सुझाव प्राप्त हुए है और नागरिकों द्वारा इस महत्वपूर्ण प्रयोजन हेतु काम भी किया गया है।

हमें आशा है कि आप अपनी भागीदारी इसी प्रकार बनाए रखेंगे और अपने विचारों और सुझावों द्वारा हमें अपना सहयोग देते रहेंगे। हम अपेक्षा करते है कि आगे भी प्रतिभागियों द्वारा चर्चा के विषयों पर ध्यान केन्द्रित किया जाएगा जिसके द्वारा आपके ज्ञान, अनुभव और सुझावों को उपयोगी तरीके से साझा किया जा सके।

इस चर्चा में भाग लेने के लिए सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद!

जलागम प्रबंधन दल, भूमि संसाधन विभाग

अपनी टिप्पणियां दें

कुल टिप्पणियां - 75

Leave a Reply

  • Balraj Amaravadi - 7 years ago

    From one of my friends, i got this : we can merge the washbasin output ( the water from washbasin) to the input of flush tank. This way water can be saved a lot. Make this a mandatory in all Hotels, restaurants, public utilities etc

  • Arun Patro - 7 years ago

    1. water harvesting should be made compulsory in all area (rural and Urban) for excess water, rain water and treated used water.
    2. Small Water reservoir (farm pond) should be developed under NREGA to contain Excess flowing water in rural areas for agricultural purpose.
    3. More usage of steam canal, river by small diveration with the help of local group and expertise. at least 10 km of rever bed(left and right) should be used for agriculture.

  • Arun Patro - 7 years ago

    1. River bed(Left and right) should be developed to stop soil erosion.
    2. Water containing/flowing capacity of river need to be calculated. Whenever needed river widening and depth may be increased. It helps to fight flood and drought.
    3. Whenever space and soil permit, small water reservoir need to be developed side/mid of the revers. It can be piped (With out water pump) to near by area.It helps to increase water level of near by area and in agriculture field.

  • TCS PRASAD - 7 years ago

    There has been unnecessary halla-gulla on sand mining in river beds.Almost all rivers are plagued with silt reducing water carrying capacity and causing floods.Ones rains recede, there is very little or no water left in rivers.Sand mining activities must be utilised for extracting sand from notified silted areas.This will be a win-win situation. Instead of putting efforts to stop mining, govt should put efforts in guiding and directing them to the selected areas.

  • TCS PRASAD - 7 years ago

    With concrete jungles and black top roads,seeping water in to underground aquafiers has reduced drastically reducing water levels.Large water sinking pits like Community wells must be constructed near irrigation canals at regular intervals exclusively for recharging ground water. During rainy season, instead of letting flood waters to sea, these wells must be used fully to store water under ground thereby reducing risk of flooding and water usage after monsoon.

  • Yashasvi S - 7 years ago

    It has been depicted by the UN survey that the water resource would be in short very soon in India by 2050. But its also suggested that the water conservation can help to surpass this milestone and have a better quality of life. The probable way to conserve water is by Implementing a scheme for rain water harvesting since almost 90pc of rain water which has domestic usage is wasted which flows to rivers or lakes ending up in ocean.This can also help restoration of aquifers Ex Rajastan,Karnataka

  • kennedy - 7 years ago

    Bring back the policy of implementing river connecting project throughout india thus was initiated actively by VAJBAYJI and KALAMJI, let us understand thus is serious issue down the year, this the right time we should implement.

    1. let us implement constitutional amendment that all rivers all national property and centre should control it without any state interference
    2. put a road map for 5 years entire india should be interlinked
    3. ph-1 neighbour state/ ph-2 4 regions ph-3 entire n

  • k Sudarshan - 7 years ago

    Sir
    We have seen the change you have brought through Search Bharat , practicing yoga. The same way you start a campaign To Save Water & Rejuvenate Lakes,Rivers & all water bodies. National river linking project should be taken on a priority. If we don’t save water, it is going to be worse. Need to increase ground water level.

  • Arun m_2 - 7 years ago

    Please connect all the rivers connect together please due this thing as emergency work. Our country is a agricultural based country so state full of flood some state or complete dry. Please connect the river and save our nation.

  • Nandita Narayan - 7 years ago

    Considering the major shortage in fresh water that the world is experiencing, there is a dire need to find alternate sources of water to sustain life. Being a country that has already conquered the space and nuclear technology, I wonder if we can extend our expertise to harness sea water for human consumption. India being a peninsula has ample sea water resources at its disposal. Having said this, I request you to look into this area of research and investigate the viability of this project.