You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

डीएसटी और टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स इंक के सेमीफाइनल में इंडिया इनोवेशन चैलेंज डिजाइन प्रतियोगिता 2016

17 Jul 2017

भारत  अपने अविश्वसनीय और बेहतरीन इंजीनियरिंग प्रतिभा की बदौलत दुनिया की सबसे बड़ी चुनौतियों से निपटने में मदद करने में ना केवल सक्षम है बल्कि वह शीर्ष स्थान पर है।  भारत के पास एक विशाल अवसर और कहें तो समाधान है कि वह दुनियाभर में लाखों लोगों की मदद कर सकता है या कहें तो गेम चेंजिग माहौल तैयार कर सकता है । डीजीटी और टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स इंक ने माइगोव और डीआईपीपी के सहयोग से आईआईएम बैंगलोर की तरफ से आयोजिच भारत अभिनव चुनौती डिजाइन प्रतियोगिता 2016 (आईआईसीडीसी 2016) शुरू की है। यह प्रतियोगिता ऐसी एक पहल है जहां युवा इंजीनियरिंग छात्र … भारत में तकनीक आधारित उद्यमिता के एक नए युग में खुद को साबित  करने के लिए अपनी वैज्ञानिक जिज्ञासा और तकनीकी कौशल का उपयोग कर सकते है , भारत में टेक-लीड उद्यमशीलता के एक नए युग  के साथ  देश के विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान तो कर ही सकते हैं साथ ही सरकार की अहम परियोजनाओं में से एक मेक इन इंडिया में भी ये छात्र आने वाले समय में बेहतर भूमिका निभा सकते हैं।

इंडिया इनोवेशन चैलेंज 2016 में शीर्ष टीमों को आईआईएमबी (IIMB) के प्रतिष्ठित ऊष्मायन उद्यमिता केद्र के Nadathur S. Raghavan Centre for Entrepreneurial Learning (NSRCEL) में अपने स्टार्टअप करने का अवसर मिलेगा। वहीं डीएसटी छात्र स्टार्टअप के लिए 3.5 करोड़ रुपये का फाइनेंस प्रदान करेगी, इनमें से 1.5 करोड़ रुपये के प्रोडक्ट डेवलपमेंट फंड में जाएंगे। जबकि शीर्ष टीमों के लिए दो करोड़ रुपये का सीड फंड होगा जो उनके स्टार्ट-अप के काम आएगा।

इस प्रतियोगिता ने देश के 25 राज्यों में फैले 624 कॉलेजों के11000 छात्रों से भाग लिया है। 428 टीमें प्रतियोगिता के क्वार्टरफ़ाइनल के लिए चुने गए थे। इन टीमों को अपने विचार को एक उत्पाद को प्रोटोटाइप(आदर्श रूप या कहें प्रतिकृति )  में परिवर्तित करने के लिए टीआई और आईआईएमबी का समर्थन प्राप्त हुआ । आखिरकार शीर्ष 54 टीमों को इंडिया इनोवेशन चैलेंज 2016 के लिए सेमीफाइनल के रूप में चुना गया था

इस लिंक पर आप क्लिक कर सेमीफाइनल में पहुंचेने वालों की लिस्ट देख सकते हैं

भारत में अभिनव चैलेंज के लिए सेमीफाइनल आयोजित किया जाएगा

15 अप्रैल, 2017  को भारतीय प्रबंधन संस्थान, बैंगलोर

और

22 अप्रैल, 2017 को बीएमएल मुंजाल विश्वविद्यालय, गुरूग्राम

सेमीफाइनल के दौरान छात्र/  टीम अपने उत्पाद को आईआईएम बैंगलोर की तरफ से बनाए गए मूल्यांकनकर्ताओं के पैनल में पेश करेगी

टीमों को सेमीफाइनल के दौरान सभी मूल्यांकनकर्ताओं और दर्शकों के लिए एक प्रदर्शनी के जरिए प्रदर्शन करने का मौका भी मिलेगा। इस दौरान टीम  अपने हार्डवेयर उत्पाद प्रोटोटाइप ( प्रतिकृति) को भी प्रदर्शित कर सकती है। सेमीफाइनल के परिणाम मई 2017 में घोषित किए जाएंगे।

भारत में अभिनव चुनौती एक पहल है जहां हम इंजीनियरिंग के छात्रों को उनके विचारों को नवीन समाधान बनाने के लिए सक्षम करते हैं, साथ ही वे जो तकनीकी ज्ञान प्राप्त करते हैं  उसका फायदा हमारे समाज को कितना मिल पाता है।  साथ ही इन आइडिया से भारतीय इंजीनियरिंग छात्रों के आविष्कार करने में मदद से लेकर और उन्हें भविष्य के सफल उद्यमी बनने में मदद करते हैं।

इनोवेट विद इंडिया,चेंज द वर्ल्ड

अपनी टिप्पणियां दें

कुल टिप्पणियां - 0

Leave a Reply