You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

नए भारत के अपरिचित नायकों की खोज

18 Sep 2019

पश्चिम बंगाल की श्रुति रेड्डी, अरूणाचल प्रदेश की ताना सुम्पा, तेलंगाना के काडीवेंडी महीपाल चारी अकेले नहीं हैं। वे कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई) द्वारा 2016 के बाद से प्रतिवर्ष आयोजित किए जाने वाले राष्ट्रीय उद्यमशीलता पुरस्कार के 59 विजेताओं में से हैं। पिछले 3 वर्षों में मंत्रालय ने विभिन्न सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि और भौगोलिकता से उभरते हुए उत्कृष्ट उद्यमियों की उपलब्धि पर प्रकाश डालते हुए कई जीवन बदल दिए हैं और उन्हें स्थानीय नायकों के रूप में पेश किया है। भारत के हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की दूरदर्शिता ही है जिसके कारण इस पहल के माध्यम से देश के कोने-कोने में इसका प्रभाव दिखाई देना शुरू हो चुका है।

इन अपरिचित नायकों द्वारा बनाए गए उत्पादों और दी गई सेवाएँ अब तक अनसुनी रही हैं। ये अत्यंत पेशेवर रूप से अंतिम संस्कार सेवाओं जैसी मानवीय सेवाओं से लेकर खेतों को कृषि प्रचालन कुशल और परिश्रम रहित बनाकर सटीक कृषि के लिए युवाओं को प्रेरित करने के उत्पाद तक है।

इन उत्पादों और सेवाओं के बारे में ध्यान देना न केवल अभिनव सोच है, बल्कि उनकी खोज ने कैसे चारों ओर के सैकड़ों लोगों के जीवन को छुआ और बदल दिया यह विचारणीय है। यह सकारात्मक ऊर्जा संक्रामक है और यह सकारात्मकता और आशावाद के वृहद वातावरण का निर्माण करके काफी बढ़ जाती है। यह नया भारत है, जिसकी ओर हम सामूहिक रूप से बढ़ रहे हैं। कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय, राष्ट्रीय उद्यमशीलता पुरस्कार के माध्यम से संपूर्ण भारत के युवाओं को प्रोत्साहित करके इसे अधिक से अधिक ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए एक सक्रिय हितधारक है।

मंत्रालय अपने प्रयास में अकेला नहीं है। भारत के विभिन्‍न क्षेत्रों में स्थित 12 विश्‍वसनीय पार्टनर संस्‍थाएं जैसे IIT Madras, IIT Delhi, IIT Kanpur, XLRI, TISS, NSIC, IIT Guwahati, IRMA, MANAGE, NIF, NABARD, और RSETI का साथ देकर मंत्रालय का सहयोग किया है। पार्टनर संस्‍थाओं द्वारा अपने ठोस जमीनी प्रयासों जैसे रोड शो, MSME Expos, incubators, सह-कार्य स्थानों के कारण परिलक्षित कार्यशालाओं तथा उक्‍त के साथ-साथ उद्यमिता पारिस्थितिकी तंत्र से जुड़े हितधारकों के विभिन्न समारोहों के माध्‍यम से अंतिम लक्ष्य तक पहुँचने की कोशिश की है। फलस्‍वरूप केंद्रीय मंत्रालयों और राज्य सरकारों के प्रतिबद्ध समर्थन के कारण देश के विभिन्‍न भौगोलिक क्षेत्रों से आवेदकों को जुटाने में मंत्रालय को भरपूर मदद मिली।

01 लाख, 10 लाख और 1 करोड़ रुपये तक के प्रारंभिक निवेश के आधार पर 3 श्रेणियों में कुल 45 पुरस्कार प्रदान किये जाने प्रस्तावित है। मंत्रालय इस तरह विभिन्न सेक्टरों और देश के अलग-अलग क्षेत्रों तथा सामाजिक-आर्थिक श्रेणियों से युवा उद्यमियों (40 वर्ष की आयु तक) के पारिस्थितिकी तंत्र निर्माता-जन की प्रविष्टियों को बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

इस प्रतिबद्ध प्रयास के साथ, मंत्रालय देश के सर्वश्रेष्ठ युवा उद्यमियों और पारिस्थितिकी तंत्र निर्माता-जन को सामने लाने के लिए तत्पर है और उन्हें दूसरों के लिए उत्कृष्टता और आदर्श के रूप में प्रदर्शित करता है।

 

Total Comments - 0

Leave a Reply