You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

दिव्यांगजन सशक्तीकरण-2017 पर लघु फिल्म प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा

08 Mar 2018

विकलांगता क्षेत्र में किए जा रहे सभी कार्यों में समाज में संवेदनशीलता और जागरूकता की कमी महत्वपूर्ण चुनौती रही है.. इसने DEPwD की ‘दिव्यंजन शशक्तिकरण -2017’ पर लघु फिल्म प्रतियोगिता का आधार बनाया। सुलभ भारत अभियान(Accessible India Campaign) को लेकर जागरुकता पैदा करने के लिए और आम जनता के बीच विकलांग व्यक्तियों (दिव्यांगजन) मसलन डिपार्टमेंट ऑफ इंपावरमेंट ऑफ परसनस विद डिसऐबलिटिजड (दिव्यांगजन (DEPwD) के सशक्तीकरण विभाग की विभिन्न योजनाओं को बढ़ावा देने के लिए प्रतियोगिता आयोजित की गई थी।

जुलाई 2017 में फिल्म फेस्टिवल निदेशालय (डीएफएफ) के सहयोग से इस प्रतियोगिता का शुभारंभ किया गया था और अगस्त 2017 तक सबमिशन के लिए खोला गया था।

लघु फिल्म की ये प्रतियोगिता तीन श्रेणियों में आमंत्रित की गई थी। तीस मिनट की अवधि तक शॉर्ट डॉक्यूमेंट्री, 5 मिनट तक के ड्यूरेशन की शॉर्ट फिल्म और टीवी स्पॉट यानी टीवी पर चलने वाले टीवी विज्ञापन, जिसकी अवधि 50 सेकेंड तक की हो…आमंत्रित की गई

‘लघु वृत्तचित्र’ और ‘टीवी स्पॉट’ अभिगम्य भारत अभियान विषय पर आधारित थे, जबकि ‘लघु फिल्म’ के विषय निम्नानुसार थे:

विकलांग व्यक्तियों को दी गई छात्रवृत्ति के लाभ

विकलांग लोगों के लिए सुगम और सहायक उपकरणों के लाभ

विकलांग व्यक्तियों को दिए गए ऋण के लाभ

विकलांग व्यक्तियों के लिए सुलभ भवनों के लाभ

विकलांग व्यक्तियों के स्किलिंग के लाभ

विकलांग व्यक्तियों के लिए काम कर रहे गैर सरकारी संगठनों के लाभ

इस मुहिम को फैलाने के लिए, विभाग ने पूरे देश में राष्ट्रीय समाचार पत्रों में दो विज्ञापन प्रकाशित किए और मायगोव के साथ हाथ मिला लिया। लघु फिल्म, वृत्तचित्र और टी.व्ही. स्पॉट की श्रेणी में पूरे देश से 150 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुईं।

फिल्म और मीडिया के क्षेत्र में नाम कमाने वाले दिग्गजों में से सुश्री अपर्णा सान्याल, श्री कृष्णुन्दु बोस, श्री नीला माधव पांडा और श्री बालाकिशनन दिवाकर की प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों की जूरी ने  की सबसे अच्छी प्रविष्टियों की छानबीन की , जिसका आधार अच्छा ढंग से विषयों और दर्शकों के साथ सबसे ज्यादा जुड़ाव पैमाना था । इन सबके अलावा श्री के.व्ही.एस. राव ने न्यायाधीश के पैनल में विभाग का प्रतिनिधित्व किया

विभाग के कार्यों के दौरान आम जनता में जागरूकता लाने और जागरूकता पैदा करने के लिए पुरस्कार विजेता फिल्मों का इस्तेमाल किया जाएगा।

दिव्यांगजन सशक्तीकरण -2017 पर शॉर्ट फिल्म प्रतियोगिता का पुरस्कार समारोह 9 नवंबर, 2017 को सिरीफोर्ट ऑडिटोरियम, दिल्ली में फिल्म महोत्सव के निदेशक (डीएफएफ) के साथ आयोजित किया गया।

कुल 10 पुरस्कारों में , तीन प्रकार के वृत्तचित्र, लघु फिल्म और टीवी स्पॉट में  दिए गए ।  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण मंत्री श्री थानावचंद गहलोत थे। इन्होंने एक शानदार समारोह में विजेताओं तो प्रमाण पत्र और स्मृति चिन्ह के साथ पुरस्कृत किया।

कार्यक्रम में भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र (आईएसएलआरटीसी) से आए विकलांग छात्रों ने साइन-लैंग में राष्ट्रगान प्रस्तुत किया गया। इसके बाद ए.एल.पी.ए.एन.ए. से विकलांग छात्रों द्वारा एक नृत्य प्रदर्शन किया गया। इसके बाद, अमर ज्योति चैरिटेबल ट्रस्ट के विशेष रूप से विकलांग बच्चों द्वारा घूमर नृत्य का प्रदर्शन किया गया …जिसने  श्रोताओं पर जबर्दस्त जादू किया । समारोह के अंत में पुरस्कार विजेताओं की फिल्मों का भी प्रदर्शन किया गया।

विजेताओं की सूची निम्नानुसार है:

डॉक्यूमेंट्री-

क्रमांक     फिल्म का नाम              डायरेक्टर            प्रोड्यूसर          पुरस्कार व ईनामी राशि

  1. सुगम्य भारत            नरेंद्र जोशी             नरेंद्र जोशी        प्रथम, 5 लाख की राशि

बेस्ट शॉर्ट फिल्म-

क्रमांक फिल्म का नाम डायरेक्टर प्रोड्यूसर पुरस्कार व ईनामी राशि श्रेणी
1 अजान सुयश शिंदे सुयश शिंदे 4,00000(4 लाख रूपए) विकलांग व्यक्तियों के लिए एडीआईपी योजना, कैंप और सहायक उपकरणों के लाभ
2. अचला अभय पंजाबी अभय पंजाबी 4,00000(4 लाख रूपए) विकलांग व्यक्तियों को दिए गए ऋण के लाभ
3. तुम ,मैं और हम सब अमित सोनकर अमित सोनकर 4,00000(4 लाख रूपए) विकलांग व्यक्तियों के लिए सुलभ भवनों के लाभ
4. आई नो साइन लैंग्वेज बी डी बंसकर फिल्मस डिवीजन 4,00000(4 लाख रूपए) विकलांग व्यक्तियों के स्किलिंग के लाभ

 

टीवी स्पॉट

क्रमांक फिल्म का नाम डायरेक्टर प्रोड्यूसर पुरस्कार और कैश अवॉर्ड
1 जेबरा क्रासिंग ज्योत्सना पुरथान ज्योत्सना पुरथान प्रथम(5,00000 -पांच लाख रूपए)
2. दिस इज मी शिवानी सोशल एक्सेस द्वितीय( 300000), तीन लाख रूपए

 

तीन…पांच मिनट की लंबी फिल्में,  विशेष रूप से जूरी सदस्यों द्वारा इसकी गुणवत्ता सामग्री के लिए उल्लेखित थीं। फिल्में इस प्रकार हैं:

क्रमांक फिल्मों के नाम कैटगरी आवेदकों के नाम/डायरेक्टर/प्रोड्यूसर
1 अभियान फिल्मस डिवीजन ऑफ इंडिया
2 डायलर अरूणिमा सिंह फिल्मस डिवीजन ऑफ इंडिया
3 डॉट Tv spot ज्योत्सना पुरथन

 

अपनी टिप्पणियां दें

कुल टिप्पणियां - 0

Leave a Reply