You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

अब नहीं होगा देश से प्रतिभा का पलायन….प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप योजना की शुरूआत

MyGov Team
27 Feb 2018

नरेंद्र मोदी की सरकार हर दिशा में सबका साथ सबका विकास को ध्यान में रखकर विकास पथ पर आगे बढ़ रही है। सरकार ने गरीब परिवारों के लिए जहां 5 लाख रूपए तक की स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत’ का ऐलान किया है वहीं छात्रों के लिए भी कई अहम कदम उठा रही है। सरकार की ये सोच है कि भारत के शिक्षित युवाओं में जो क्षमता है उसका उपयोग सही तरह से नहीं हो रहा है। यही वजह है कि देश में शिक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए राष्ट्रीय प्रधानमंत्री फेलोशिप योजना की शुरूआत की गई है। इस योजना के तहत 1650 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। जिसमें चुने गये छात्रों को आईआईटी और भारतीय विज्ञान संस्थान आदि में पीएचडी करने के लिए सीधे दाखिला मिल सकेगा। इस सरकार की सोच है कि रिसर्चव इंनोवेशन को बढ़ाने से ही भारत दुनिया के टॉप शिक्षण संस्थानों को टक्कर दे सकता है।

प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप (पीएमआरएफ) के लिए आवेदन की प्रक्रिया 24 फरवरी से शुरूआत हो गई है। आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च 2018 तक है। यह फेलोशिप मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से दी जा रही है । योजना के तहत दो सालों तक छात्रों को हर साल प्रत्येक महीने में 70 हजार रुपए और उसके बाद 75 हजार रुपए तथा चौथे और पांचवे साल में 80 हजार रुपया का वजीफा हर महीने दिए जायेंगे। इतना ही नहीं इस योजना में ढाई लाख रुपए की आकस्मिक निधि भी मिलेगा।ये फेलोशिप देशभर के केवल 1000 छात्रों को ही दी जाएगी।

शोध में रूचि रखने वाले छात्रों को आवेदन ऑनलाइन करना होगा। आप इसके लिए www.pmrf.inपर जाकर लॉग इन कर सकते हैं। और साइट पर दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए आवेदन प्रपत्र भर सकते हैं।

देश को होगा फायदा

आम तौर ऐसी अवधारणा है कि दूसरे देशों में भारत से ज्यादा पैसा शोध के लिए छात्रों को मिलता है और कमोबेश ऐसा होगा भी यही कारण है कि छात्र भारत से बाहर चले भी जाते हैं पर अब इसमें कमी आ सकती है। प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप से देश के हजारों छात्रों का फायदा होगा। इसकी मदद से कई छात्र पीएचडी कर पाएंगें। यूं कहा जाए कि इस महत्वाकांक्षी योजना के बहुतेरे फायदें होंगे तो गलत नहीं होगा। इस योजना की मदद से जहां हम शोध व रिसर्च के क्षेत्र में आगे बढेंगे वहीं देश के तकनीकी शिक्षा केंद्रों में भी आने वाले दिनों में बेहतर शिक्षक मिलेंगे।

 

स्कीम सत्र  2018-19 ऐकडेमिक सेशन से लागू हो गया है पर हां ये भी जान लीजिए कि आवेदन करने के लिए न्यूनतम स्कोर सीजीपीए होना चाहिए। तो फिर इंतजार कैसा अगर आपकी शिक्षा इन मानकों पर केंद्रित है तो जल्द ही www.pmrf.inपर जाकर आवेदन करें और प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप योजना का फायदा उठाएं।

 

Total Comments - 0

Leave a Reply

Latest Editorials

14 अप्रैल, 2018 से 05 मई, 2018 तक “ग्राम स्वराज अ
”Visionary Leaders के पास प्रत्येक कार्य के लिए
मानसून की फसल खरीफ को लेकर एक अच्छी खब